Home साहित्य जानिए कौन हैं वो ग़ालिब मिर्जा, जिन्हें गूगल ने डूडल बना किया...

जानिए कौन हैं वो ग़ालिब मिर्जा, जिन्हें गूगल ने डूडल बना किया याद

नई दिल्ली। आज यानी बुधवार को मशहूर शायर मिर्जा गालिब की आज 220वीं जयंती है। इस मौके पर गूगल ने डूडल बना कर उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की है। गूगल ने गालिब साहब की एक फोटो शेयर की है। इस तस्वीर में गालिब के हाथों में कलम और पेन दिखाई दे रहा है। फोटो में वह बाहर की तरफ देख तरह है इस देखकर लग रहा है जैसे गालिब किसी सोच में डूब हुए है। बैकग्राउंड में मुगलकालीन वास्तुकला दिख रही है।

गालिब एक ऐसे शायर थे जिनके लिए भारत-पाकिस्तान की सरहदें एक हो जाती है। जितनी ख्याति उन्हे यहां मिली उतनी ही इज्जत उन्हें पाकिस्तान में मिली। मिर्जा गालिब का जन्‍म 27 दिसंबर 1796 उत्तर प्रदेश के आगरा में एक सैन्य परिवार में में हुआ था। उनका पूरा नाम असद-उल्लाह बेग खां उर्फ गालिब था।

बचपन से ही गालिब को कई मुसीबतों का सामना करना पड़ा था। उनकी जिदंगी काफी उथल-पुथल और त्रासदी भरी रही। उनका यह दर्द उनकी शायरी में कहीं ना कहीं दिखता है। बचपन में ही उनके पिताजी चले बसे थे जिसके बाद उन्हें उनके चाचा ने पाला था, लेकिन उनका साथ भी काफी कम समय में छूट गया। बाद में उनकी परवरिश नाना-नानी ने की थी। 13 वर्ष में गालिब की शादी बेगम से हो गई थी। विवाह के बाद गालिब की आर्थिक कठिनाइयां बढ़ती ही गईं। इसके बाद 7 नवजात बच्चों की मृत्यू ने उन्हें झकझोंर कर रख दिया।

मुगल शासक बहादुर शाह ज़फ़र ने उन्‍हें दो बड़ी उपाधियों से नवाज़ा। उन्‍हें अपने दरबार का खास अंग बनाया। गालिब को उर्दू भाषा का सर्वकालिक महान शायर माना जाता है। फारसी कविता को हिन्दुस्तानी जबान में लोकप्रिय करवाने का श्रेय भी इनको दिया जाता है। सन् 1841 में गालिब की गजलों का पहला संग्रह दीवान-ए-गालिब के नाम से प्रकाशित हुआ। 1869 में इस अदीब का इंतकाल हो गया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here