Home राज्य आंध्र प्रदेश पहले जज होंगे जस्टिस कर्णन, रिटारयमेंट के दिन रहेंगे फरार

पहले जज होंगे जस्टिस कर्णन, रिटारयमेंट के दिन रहेंगे फरार

SHARE

कोलकाता हाईकोर्ट के जज सी. एस. कर्णन सोमवार को रिटायर हो रहे हैं, लेकिन देश में ऐसा पहली बार होगा जब कोई जज अपने ही फेयरवेल में शामिल नहीं होगा। दरअसल जस्टिस कर्णन अभी फरार चल रहे हैं, अगर वो मिल जाते हैं तो उन्हें अदालत की अवमानना के लिए गिरफ्तार कर लिया जाएगा।

कलकत्ता हाई कोर्ट के जज कर्णन 9 मई से अंडरग्राउंड हैं. सुप्रीम कोर्ट ने जस्टिस कर्णन को अवमानना का दोषी मानते हुए 6 महीने की सजा सुनाई थी.

दरअसल, जस्टिस कर्णन ने मद्रास हाई कोर्ट और सुप्रीम कोर्ट के कई जजों के खिलाफ भ्रष्टाचार के आरोप लगाए थे. सुप्रीम कोर्ट के 7 जजों की बेंच ने इस सिलसिले में जस्टिस कर्णन की लिखी चिट्ठियों का स्वत: संज्ञान लेते हुए उनके खिलाफ कोर्ट की अवमानना का मुकदमा शुरू किया था. इस सिलसिले में जस्टिस कर्णन 31 मार्च को सुप्रीम कोर्ट में पेश हुए थे. ऐसा करने वाले वो किसी भी हाई कोर्ट के पहले जज थे. सुप्रीम कोर्ट ने जस्टिस कर्णन को अवमानना के मामले में दोषी करार देते हुए 6 महीने की सजा सुनाई थी.

कोर्ट के इस आदेश के बाद ही जस्टिस कर्णन कोलकाता से अपने गृह प्रदेश तमिलनाडु आ गए थे. उनके पीछे अगले ही दिन पश्चिम बंगाल पुलिस की दो टीमें भी चेन्नई पहुंच गईं थीं. तब से अब तक तमिलनाडु और आंध्र प्रदेश के कई ठिकानों में जाकर पुलिस तलाश कर चुकी है लेकिन जस्टिस कर्णन का कोई पता नहीं चल पाया है.