Home राज्य बिहार ‘मुस्लिम उम्मीदवार को इस्लामिक स्टेट से जोड़ना सांप्रदायिक मानसिकता’

‘मुस्लिम उम्मीदवार को इस्लामिक स्टेट से जोड़ना सांप्रदायिक मानसिकता’

SHARE
Patna:

पटना : राष्ट्रीय जनता जल (राजद) ने शनिवार को भाजपा की आलोचना करते हुए कहा कि लोकसभा चुनाव में मुस्लिम उम्मीदवार को इस्लामिक स्टेट से जोड़ना सत्ताधारी पार्टी की सांप्रदायिक मानसिकता का द्योतक है। भारतीय जनता पार्टी के बिहार प्रमुख नित्यानंद राय ने शुक्रवार को एक चुनावी जनसभा में अररिया लोकसभा उपचुनाव के राजद उम्मीदवार सरफराज आलम के बारे में कहा कि वह अगर चुनाव जीतेंगे तो वहां वैश्विक आतंकी गुट का अड्डा बन जाएगा।

करीब 41 फीसदी मुस्लिम मतदाता वाले अररिया लोकसभा क्षेत्र में रविवार को उपचुनाव के लिए मतदान होगा। यहां दो विधानसभाओं के लिए उपचुनाव हो रहे हैं।

राजद के वरिष्ठ नेता शिवानंद तिवारी ने कहा कि इससे पहले भी भाजपा नेताओं ने प्रदेश में मतदाताओं का ध्रुवीकरण करने के लिए ऐसे बयान दिए हैं। उन्होंने भाजपा अध्यक्ष अमित शाह के 2015 के बयान का जिक्र किया जिसमें उन्होंने कहा था कि अगर उनकी पार्टी बिहार में विधानसभा चुनाव हारती है तो पाकिस्तान में पटाखे छोड़े जाएंगे और उत्सव मनाया जाएगा।

प्रदेश भाजपा प्रमुख ने अपने चुनावी भाषण में कहा कि अगर भाजपा के प्रदीप कुमार सिंह जीतेंगे तो राष्ट्रवाद को मजबूती मिलेगी।

दिलचस्पी की बात है कि सरफराज आलम पिछले महीने तक भाजपा के सहयोगी जदयू के विधायक थे। जदयू छोड़कर उन्होंने राजद का दामन थामा।

गौरतलब है कि अररिया लोकसभा सीट यहां से राजद सांसद और उनके पिता मोहम्मद तसलीमुद्दीन के पिछले साल निधन हो जाने से रिक्त हुई थी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here