Home राज्य गुजरात हैदराबाद विकास केंद्र में माईक्रोसॉफ्ट गैराज शुरू

हैदराबाद विकास केंद्र में माईक्रोसॉफ्ट गैराज शुरू

Rajpath Desk : माइक्रोसॉफ्ट ने सोमवार को यहां अपने भारत विकास केंद्र (आईडीसी) में माइक्रोसॉफ्ट गैराज को आधिकारिक रूप से शुरू कर दिया है।सॉफ्टवेयर दिग्गज ने एक बयान में कहा कि यह गैराज माईक्रोसॉफ्ट के कर्मचारियों के लिए एक संसाधन है, जो नए व इनोवेटिव तरीकों से प्रॉब्लम-सॉल्विंग को बढ़ावा देता है ताकि लोग ज्यादा उपलब्धि हासिल करने में समर्थ बन सकें।

हैदराबाद में माईक्रोसॉफ्ट इंडिया डेवलपमेंट सेंटर में गैराज सुविधा का उद्घाटन तेलंगाना के आईटी मंत्री के. तारक रामा राव ने किया है।

इस समारोह में तेलंगाना के प्रधान सचिव जयेश रंजन, माईक्रोसॉफ्ट गैराज के पार्टनर डायरेक्टर जेफ रामोस, माईक्रोसॉफ्ट इंडिया (आरएण्डडी) के कॉपोर्रेट उपाध्यक्ष (क्लाउड और कंप्यूटिंग) और प्रबंध निदेशक अनिल भंसाली, आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस एण्ड रिसर्च (एआईएण्डआर) माईक्रोसॉफ्ट ग्लोबल के कॉपोर्रेट उपाध्यक्ष टी.के. रंगराजन और माईक्रोसॉफ्ट गैराज- इंडिया की निदेशक रीना दयाल यादव उपस्थित रहे।

यह गैराज माईक्रोसॉफ्ट के कर्मचारियों के लिए एक मंच है जो प्रयोग की संस्कृति को बढ़ावा देता है और विभिन्न संस्थानों में एक साथ काम करते हुए वो विचारों की खोज कर प्रोटोटाइप विकसित करते हैं और वर्तमान उत्पादों को ज्यादा उपयोगी बनाते हैं।

अत्याधुनिक सुविधाओं से सुसज्जित 8000 वर्गफीट का गैराज इंडिया कंपनी की विभिन्न टीमों को उनकी परियोजनाओं में सहयोग करने के लिए निर्मित किया गया है। इसमें तीन समर्पित लैब खंड हैं – हैकेथॉन्स और कार्यशालाओं के लिए केंद्र, इलेक्ट्रॉनिक वर्कबेंच के साथ एक मेकरस्पेस और एक उन्नत मेकरस्पेस, 3 डी प्रिंटर, लेसर कटर, प्रोटोटाइप बनाने के लिए पीसीबी मिलिंग मशीन, ऑगमेंटेड रियल्टी (एआर) वर्चुअल रियल्टी (वीआर) के क्षेत्र में काम करने के लिए समर्पित एक रियल्टी रूम तथा डीप लर्निग पर काम करने के लिए मिक्स्ड रियल्टी एप्लीकेशंस और समर्पित स्पेस और ईक्विपमेंट।

द गैराज द्वारा विकसित प्रभावशाली टूल्स और टेक्नॉलॉजीज में सीईंग एआई शामिल है, जो दृष्टिहीनों के लिए विकसित एप है। यह उन्हें आसपास के परिवेश की जानकारी देता है। यह प्रोजेक्ट लोगों, टेक्स्ट, करेंसी, कलर और ऑब्जेक्ट्स के विवरण के लिए एआई का उपयोग करता है।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here