Home देश जानिए इस नेता के बारे में, जिनकी वजह से बदला गया मुगलसराय...

जानिए इस नेता के बारे में, जिनकी वजह से बदला गया मुगलसराय का नाम

दिल्ली। मुगलसराय स्‍टेशन का नाम बदलकर पंडित दीनदयाल उपाध्‍याय कर दिया गया है। लेकिन क्या आप जानते हैं कि नाम बदलने में चाणक्य की भूमिका किसने निभाई! उस शख्स का नाम है महेंद्र नाथ पाण्डेय।

बनारस हिन्‍दू विश्‍वविद्यालय से राजनीति का ककहरा पढ़ने वाले महेन्‍द्र नाथ पांडेय को भाजपा ने उत्‍तर प्रदेश का अध्‍यक्ष नियुक्‍त किया है। महेन्‍द्र नाथ पांडेय ने अपनी राजनीति की शुरुआत छात्र संघ के चुनाव से की थी। अमित शाह ने गुरुवार को उनके नाम पर प्रदेश अध्‍यक्ष की मोहर लगाई।

बीएचयू से शुरु हुआ राजनीति का सफर
गाजीपुर के पखनपुर गांव के निवासी डॉ. महेन्‍द्र नाथ पांडेय का जन्‍म 15 अक्‍टूबर 1957 को हुआ था। बनारस शुरुआत से ही उनकी कर्मभूमि रही है। अब वो वाराणसी के विनायका के सरस्‍वती नगर में रहते हैं। महेन्‍द्र नाथ पांडेय ने एमए, पीएचडी के साथ मास्‍टर आफ जर्नलिज्‍म की भी डिग्री बीएचयू से ही ली है।

छात्र जीवन से राजनीति में आए महेन्‍द्र नाथ पांडेय 1973 में सीएम एंग्‍लो बंगाली इंटर कॉलेज में छात्र संघ अध्‍यक्ष चुने गऐ थे। 1987 में वो बीएचयू में छात्रसंघ के महामंत्री पद पर आसीन हुए। आपातकाल के दौरान उन्‍हें जेल भी जाना पड़ा था। छात्र जीवन से ही विद्यार्थी परिषद् में संगठन मंत्री तथा पार्टी के क्षेत्रिय अध्‍यक्ष के रूप में काम कर चुके हैं।

भाजपा से चुने गए विधायक
1991 में डा. महेन्‍द्र नाथ पांडेय सैदपुर से भाजपा के टिकट पर विधायक चुने गए। प्रदेश सरकार में डा. पांडेय को नगर आवास राज्‍य मंत्री, नियोजन मंत्री और पंचायती राज्‍य मंत्री की जिम्‍मेदारी सौंपी गई। महेन्‍द्र नाथ पांडेय भारतीय जनता पार्टी के टिकट पर 2014 में चंदौली से सांसद चुने गए। जुलाई 2016 में डा. पांडेय को मानव संसाधन विकास राज्‍यमंत्री बनाया गया।

बदलवाया मुगलसराय स्‍टेशन का नाम
मुगलसराय स्‍टेशन का नाम पंडित दीनदयाल उपाध्‍याय कराने में उनका नाम चाण्‍क्‍य के तौर पर लिया जाता है। उनका चंदौली से लोकसभा का सदस्‍य निर्वाचित होने के बाद उन्‍होंने अपनी जबरदस्‍त उपस्थिति सदन में दर्ज कराई। अपने निर्वाचन क्षेत्र में पेयजल, बिजली, सिचाई, प्राइमरी शिक्षा, स्‍वास्‍थ आदि से जुड़े मुद्दे लगातार लोकसभा में उठाए हैं। उन्‍होंने रिंगरोड के निर्माण में आ रही बाधा को भी दूर करने में महत्‍वपूर्ण भूमिका निभाई।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here