Home देश राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री ने साधु वासवानी के निधन पर शोक जताया

राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री ने साधु वासवानी के निधन पर शोक जताया

SHARE

नई दिल्ली/मुंबई : राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सिंधी आध्यात्मिक गुरु साधु जे.पी.वासवानी के निधन पर शोक जताया है।

आध्यात्मिक गुरु वासवानी का गुरुवार को पुणे में निधन हो गया।

राष्ट्रपति कोविंद ने एक संदेश में कहा, हमारे समाज में बहुत ज्यादा योगदान देने वाले आध्यात्मिक गुरु दादा जे.पी. वासवानी के निधन की खबर सुनकर दुखी हूं। उन्होंने अपना जीवन मानवता की भलाई, सरल जीवन, उच्च विचार व शिक्षा को बढ़ावा देने के लिए समर्पित कर दिया।

राष्ट्रपति कोविंद ने 99 साल के वासवानी के अनगिनत अनुयायियों के प्रति अपनी संवेदना जताई।

प्रधानमंत्री मोदी ने ट्वीट कर कहा, दादा वासवानी के निधन दुख को व्यक्त करने के लिए मेरे पास शब्द नहीं है। वह समाज के लिए जिए और गरीबों व जरूरतमंदों की करुणा के साथ सेवा की। उन्होंने लड़कियों की शिक्षा व स्वच्छता के लिए काफी कार्य किए।

प्रधानमंत्री ने कहा कि वह साधु वासवानी के साथ करीब 28 साल पहले विश्व धार्मिक सम्मेलन में शामिल हुए थे।

प्रधानमंत्री ने कहा, मैं दादा वासवानी को याद करने वाले उन लाखों लोगों में खुद को शामिल करता हूं, जिनके जीवन को उन्होंने प्रभावित किया है। उनके विचार, शिक्षाएं व सामाज सेवा कायम रहेगी और उनके मूल्यों व कार्यो को उजागर करेगी।

महाराष्ट्र के राज्यपाल सी.वी.राव ने कहा कि दादा वासवानी के निधन की खबर से वह बेहद दुखी हैं।

राव ने कहा, वह विश्व बंधुत्व, शांति व करुणा के प्रतीक थे। अपने व्याख्यान, लेखन व जन सेवा के जरिए उन्होंने लाखों भारतीयों व विदेशी लोगों को सार्थक जीवन जीने के लिए प्रोत्साहित किया।

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने कहा कि देश ने अपना एक महान बेटा खो दिया।

साधु वासवानी का पुणे में एसवीएम में निधन हो गया। वह कुछ दिनों से बीमार थे। तीन हफ्ते के बाद उनका सौवां जन्मदिन था जिसे बड़े पैमाने पर मनाने की तैयारी हो रही थी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here